Chopra Nethralaya

Contact us

    बच्चों के आँखों को कमज़ोर होने से बचाने के लिए अपनाये ये टिप्स

    बच्चों की आँखों का कमज़ोर होना वकाई में एक चिंताजनक विषय है | आज के युग में बच्चों के जीवनशैली और खानपान बहुत ही ज्यादा ख़राब हो गया है | कई बच्चे आये दिन फ़ास्ट फ़ूड का सेवन करते रहते है और अपना सारा दिन मोबाइल या लैपटॉप में गेम या फिर कार्टून देखकर बिताते है | जिसके चलते उनकी आंखे काफी कमज़ोर हो जाती है | माता-पिता का फ़र्ज़ होता है की वह अपने बच्चों की सही से देखभाल करे और साथ ही उन्हें  यह बताये की  आँखों की देखभाल करना कितना महतवपूर्ण होता है | आइये जानते है ऐसे ही आँखों से जुडी ऐसी महतवपूर्ण टिप्स जो बच्चों के आँखों को कमज़ोर होने से बचाये :- 

    मोबाइल को ज़्यादा उपयोग न करने दे :- कई माता-पिता होते है जो अक्सर बच्चों के चिड़चिड़ेपन को दूर करने उन्हें मोबाइल इस्तेमाल करने के लिए दे देते है | जिस वजह से उन्हें मोबाइल की बहुत लत लग जाती है और वह अपना सारा दिन मोबाइल को स्क्रोल करने में ही बिता देते है | जिसके चलते बच्चों की आंखे कमज़ोर होने लग जाती है | इसलिए जितना हो सके उतने ही बच्चों को मोबाइल से दूर रखें | 

    गैजेट्स का सही इस्तेमाल करने के तरीके को समझाए :- अगर किसी माता-पिता ने अपने बच्चों को किसी भी तरह का इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स दिया है तो उसे सही तरह से इस्तेमाल करने के तरीके को बताये | कोशिश करे के बच्चे टेलेविज़न और लॉपटॉप के स्क्रीन से दूर ही रहे और साथ ही बहुत पास से किताबों को पड़ने से रोकें | इससे उनकी आंखें काफी कमज़ोर हो सकती है | 

    एक हेल्दी और बैलेंस्ड डाइट का प्लान बनाएं :- बच्चों के सेहत को मजबूत बनाने के लिए विटामिन ए से युक्त एक हेल्दी और बैलेंस्ड डाइट का बनाना बेहद महत्वपूर्ण है | दरअसल पोषण तत्व का सम्पूर्ण रूप से न मिलने पर बच्चों की आंखें काफी कमज़ोर हो जाती है और साथ ही उनके सेहत पर भी काफी बुरा असर पड़ता है | इसके आलावा उनके डेली रूटीन में योग और थोड़ी बहुत व्यायाम को भी शामिल करे | प्रतिदिन योग और व्यायाम करने से बच्चों के सेहत में काफी सुधर आ जाता है और साथ ही उनकी आँखों के लिए भी काफी फायदेमंद साबित होता है |   

    आँखों को झपकते रहे :- अगर आपके बच्चे काफी समय तक मोबाइल का इस्तेमाल करते रहते है तो उन्हें इस बात के बारे में समझाएं कि वह अपनी आँखों को झपकते रहे | लगातार मोबाइल को एक-तन देखने से सुखी आंखें होने की संभावना बढ़ जाती है, जिसके चलते आंखें कमज़ोर होने के साथ-साथ इससे जुडी कई बीमारी के उत्पन्न होना का खतरा भी बढ़ जाता है |    

    अगर आपके बच्चों की आंखें कमज़ोर हो गयी है और इलाज करवाने चाहते है तो इसके लिए आप चोपड़ा नेत्रालय से चयन कर सकते है | इस संस्था के सभी डॉक्टर ऑप्थल्मोलॉजिस्ट में एक्सपर्ट है, जो इस समस्या को दूर करने में आपकी मदद  कर है |